योगी ने बजट में मुस्लिमों के लिए शुरू की ऐसी योजनाये कि भगवा संघठन हुए नाराज़,बोले-ये क्या..

0
3327

लखनऊ-उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रदेश का बजट पेश कर दिया है लेकिन जिन योजनाओ को लेकर योगी खुद पिछली सरकार की आलोचना करते रहे है.उन्होंने वो सभी योजनाये जारी रखके भाजपा के इन्तहापसंद वोटर्स को नाराज़ कर दिया है.योगी सरकार द्वारा अल्प्सख्यको के लिए योजनाओ को जारी रखने पर जहाँ मुस्लिम बुद्दिजीवियों ने स्वागत किया है लेकिन भगवा संघठनो को ये बजट पसंद नही आया है.

1-मदरसों के लिए अरबो रूपये का बजट

उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार ने इस साल के बजट में मदरसों के लिए 459 करोड़ रुपए दिए हैं.गुरुवार को उत्तर प्रदेश विधानसभा में वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल बजट पेश किया है जिसमें उन्होंने मदरसों के आधुनिकीकरण के लिए इस रकम की घोषणा की।योगी सरकार का ये तीसरा बजट है.सरकार ने 4.79 लाख करोड़ का बजट पेश किया है,जो पिछले साल के मुकाबले 12 फीसदी ज्यादा है.योगी सरकार ने अपने तीसरे बजट में करीब 21,212 करोड़ रुपए की नई योजनाओं की घोषणा की है.बजट में अरबी-फारसी की तालीम देने वाले मदरसों के आधुनिकीकरण के लिए 459 करोड़ रुपए दिए गए हैं.वहीं अल्पसंख्यक छात्र-छात्राओं को वजीफे के लिए 942 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गई है.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री
योगी आदित्यनाथ

2-एक्सप्रेस वे के लिए आबंटन

मदरसे का पुराना चित्र

वित्त मंत्री ने बजट में पूर्वांचल एक्सप्रेस के लिए 1194 करोड़,बुंदेलखंड एक्प्रेस के लिए 1000 करोड़,गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे लिए 1000 करोड़,डिफेंस कॉरिडोर के लिए 500 करोड़,आगरा लखनऊ एक्सप्रेस-वे 6 लेन के लिए 100 करोड़,स्मार्ट सिटी योजना के तहत 758 करोड़ की व्यवस्था की गई है.मथुरा वृंदावन के मध्य ऑडिटोरियम के निर्माण के लिए 8 करोड़ 38 लाख रुपए की व्यवस्था की गई है.सार्वजनिक रामलीला स्थलों में चारदीवारी निर्माण के लिए 50 करोड़ की व्यवस्था की गई है.

3-पुलिस पर भी बरसा खजाना

36 नए थानों और पुलिस के लिए बैरक बनाने को 700 करोड़,सात पुलिस लाइन के लिए 400 करोड़ रुपए,पुलिस आधुनिकीकरण के लिए 204 करोड़ रुपए का प्रस्ताव है.स्वास्थ्य के क्षेत्र में बजट में कैंसर संस्थान लखनऊ के लिए 248 करोड़ रुपए का ऐलान किया गया है,लखनऊ में अटल बिहारी चिकित्सा विश्वविद्यालय के लिए 50 करोड़ रुपए दिए गए हैं.

4-बड़ा सवाल

राजनितीक विश्लेषक मनीष शर्मा के अनुसार,यूपी में योगी सरकार ने कोई ऐसी योजना नही चलाई जिससे भाजपा को व्यापक रूप से कोई वोट मिल सके इसलिए इस बजट को क़ानूनी बजट मानना गलत है.बल्कि इस बजट से विपक्ष उत्साहित हो सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here