सीएम योगी का बड़ा खुलासा-बताई बजरंग बली की जाति

0
569

नई दिल्ली:लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा नाराज चल रहे दलित समुदाय को साधने की कोशिश में लगी हुई हैं।जिसके तहत पार्टी के नेता दलितों को खुश करने के लिए अलग-अलग हथकंडे अपना रहे हैं। इसी क्रम में राजस्थान में वसुंधरा सरकार के लिए प्रचार में जुटे सीएम योगी ने तो बजरंगबली को दलित तक बता दिया।

अपने तीखे तेवरों के लिए अलग पहचान रखने वाले योगी ने बजरंगबली के नाम पर वोट मांगते हुए कहा कि रामभक्त बीजेपी को वोट दें और रावण भक्त कांग्रेस को वोट दें.अलवर जिले के मालाखेड़ा में एक सभा को संबोधित करते हुए योगी आदित्यनाथ ने बजरंगबली को दलित,वनवासी,गिरवासी और वंचित करार दिया.योगी ने कहा कि बजरंगबली एक ऐसे लोक देवता हैं जो स्वयं वनवासी हैं,गिर वासी हैं,दलित हैं और वंचित हैं.

योगी ने अलवर जिले में कांग्रेस पर लगातार हमला बोला और जातिगत वोट बैंक को साधने की कोशिश की.उन्होंने कांग्रेस पार्टी पर हमला बोलते हुए देवी-देवताओं और हिंदुत्व के एजेंडे को भी लोगों के बीच रखा.दरअसल अलवर ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र में हनुमान को दलित के रूप में उल्लेखित करने के पीछे भाजपा का राजनीतिक समीकरण है।यह क्षेत्र अनुसूचित जाति बहुल है और अनुसूचित जाति सुरक्षित सीट भी है।

ग्रामीण लोगों में हनुमान के प्रति अपरा श्रद्धा है।हाल ही के उपचुनावों में भाजपा यहां करीब 27 हजार से अधिक वोटों से पिछड़ गई थी। नतीजन मौजूदा विधायक का टिकट काटा गया।यहां संघ के स्वयंसेवक को नए चेहरे के रूप में उतारा गया है।जबकि कांग्रेस से यहां जिलाध्यक्ष खुद लड़ रहे हैं।उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आगे कहा कि सभी भारतीय समुदाय को उत्तर से लेकर दक्षिण तक।पूरब से पश्चिम तक।सबको जोड़ने का कार्य बजरंग बली करते हैं।इसलिए बजरंग बली का संकल्प होना चाहिए। उन्होंने कहा,जब तक राम का काज नहीं होगा।हमारा संकल्प होना चाहिए जब तक राष्ट्र का कार्य नहीं होना चाहिए। तब तक विश्राम नहीं लेंगे।

बता दे कि राजस्थान में 7 दिसंबर 2018 से विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं।एक बार फिर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया के लिए और आगामी लोकसभा चुनाव 2019 से पहले भारतीय जनता पार्टी के लिए यह परीक्षा की घड़ी है।राज्य में पिछले कुछ विधानसभा चुनावों से लगातार सत्ता बदलने का ट्रेंड रहा है और इसीलिए यहां बीजेपी के लिए चुनौती बढ़ती नजर आ रही है।देश की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी भाजपा का ध्यान इस ट्रेंड को ध्वस्त करने पर है। वसुंधरा राजे पार्टी की जीत सुनिश्चित करने में तो जुटी ही हैं लेकिन इस बार उनके विधानसभा क्षेत्र में भी मुकाबला दिलचस्प है और इसे लेकर लगातार खबरें भी सामने आ रही हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here