हज में नही ले जा सकेंगे ये खाने की चीज़े,इन चीजों के बैन पर हज कमिटी के अध्यक्ष ने बताई वजह

0
551
हज पालिसी

हर साल पूरी दुनिया से लाखों मुसलमान हज करने के लिए सऊदी अरब के मक्का शरीफ पहुंचते हैं.वहीँ भारत से भी भारी तादाद में मुसलमान हज करने के लिए मक्का शरीफ जाते हैं.हज 2019 के लिए तैयारी शुरू है.हज यात्रा मैं आने वाले खर्च को हज यात्रियों से सरकार द्वारा जमा कराया जा रहा है.अबतक पहली क़िस्त जमा की जा चुकी है.इसी बीच हज यात्रियों के लिए एक बड़ी खबर आ रही है.

खबर के मुताबिक़ हज कमेटी ऑफ़ इंडिया ने इस साल के लिए गाइडलाइन जारी कर दिया है.इसके अमुतबिक़ हज यात्री इस साल अपने साथ में खाने पीने के सामान खुले तौर पर नहीं ले जा सकेंगे.जो भी सामान ले जाएंगे उसे पैक करके ले जाना होगा.यह फैसला आज यात्रियों के स्वास्थ को देखते हुए लिया गया है.

हज

इस बारे में समाजवादी पार्टी के नेता बरेली हज सेवा समिति के अध्यक्ष व पूर्व मंत्री अताउर रहमान ने जानकारी देते हुए बताया है हाजी अपने साथ में खुले मसाले लेकर नहीं जा सकेंगे.धनिया मिर्चा और जो भी खुला मसाला होता है वह हाजियों को साथ ले जाने के लिए मना किया गया है.वहीं उन्होंने यह भी बताया है कि दाल चावल अगर पैक नहीं होंगे तो भी नहीं ले जाना दिया जाएगा.

अगर कोई खुले मसाले और अनाज लेकर जाएगा तो उसे हवाई अड्डे पर ही रोक लिया जाएगा.यह हाजियों के स्वास्थ को देखते हुए फैसला लिया गया है.
उन्होंने बताया कि खुले मसाले ले जाने से हाजियों के स्वास्थ को नुकसान हो सकता है.इसलिए इस बार खुले हुए मसाले हाजियों को नहीं ले जाने दिया जाएगा.

अता उर रहमान का फाइल फोटो

बता दें कि मक्का मुकर्रमा और मदीना मुनव्वरा मुसलमानों के सबसे पवित्र शहर हैं.मुस्लिम लाखों की तादाद में हर साल इन दोनों शहरों में पहुंचते हैं.और इस्लामी कलेण्डर के मुताबिक़ साल के आखिरी महीने में कुर्बानी के दिनों में हज अदा करते हैं.हज दुनिया भर के तमाम मालदार मुसलमानों पर फ़र्ज़ कर दिया गया है.जो भी मुसलमान मक्का शरीफ आने-जाने और खर्चा उठाने की ताकत रखते हैं उनके लिए जिंदगी में एक बार मक्का शरीफ पहुँच कर हज करना फ़र्ज़ है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here