वाराणसी में मोदी के खिलाफ इस महंत को कांग्रेस चुनाव लड़ाने की कर रही है तैयारी ..

0
503

भारत का राज्य उत्तर प्रदेश राजनीतिक मामलों में काफी महत्वपूर्ण माना जाता है।उत्तर प्रदेश के पास कुल 80 लोकसभा सीटें हैं जिस पर हर राजनीतिक दल की नजर बनी रहती है।गौरतलब है कि देश के कई प्रधान मंत्री उत्तर प्रदेश से ही चुनाव जीतकर प्रधानमंत्री पद तक पहुंचे हैं।साल 2014 में देश के मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने गढ़ गुजरात को छोड़कर उत्तर प्रदेश की वाराणसी सीट से चुनाव लड़ा था।

जिस पर उन्हें जीत भी हासिल हुई थी इस बार के लोकसभा चुनाव भी पीएम मोदी वाराणसी से ही लड़ने जा रहे हैं।लेकिन इस बार उनके लिए यह लोकसभा चुनाव काफी मुश्किल साबित होने वाला है। बताया जा रहा है कि कांग्रेस ने पीएम मोदी को वाराणसी लोकसभा सीट से टक्कर देने के लिए एक दिग्गज नेता चुन लिया है।

राजनीतिक सूत्रों की मानें तो वाराणसी लोकसभा सीट से कांग्रेस ने संकट मोचन मंदिर के महंत विशंभर नाथ मिश्रा को टिकट देने का फैसला लिया है। हालांकि इस मामले में अभी तक कांग्रेस का कोई अधिकारिक बयान नहीं आया है।लेकिन कांग्रेस में के अंदर खाने से यही खबर आ रही है कि पीएम मोदी को उनके घर में घेरने के लिए पूरा विपक्ष एकजुट हो रहा है।

बताया जा रहा है कि कांग्रेस के इस फैसले पर सपा-बसपा भी उन्हें समर्थन देने की तैयारी में हैं।आपको बता दें कि कांग्रेस द्वारा चले गए इस कदम को राहुल गांधी और प्रियंका गांधी का मास्टर स्ट्रोक माना जा रहा है।बात करें संकट मोचन मंदिर के महंत विशंभर नाथ मिश्रा की तो वह बनारस की सुप्रसिद्ध यूनिवर्सिटी बीएचयू के प्रोफेसर हैं और उनका यहां पर खासा प्रभाव है हर समाज के सबके में उनकी छवि काफी अच्छी मानी जाती है।

बीते दिनों विशंभर नाथ मिश्रा ने गंगा मैया की निर्मलता को लेकर चलाए जा रहे अभियान में भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया था।गौरतलब है कि विपक्षी दलों ने अभी तक वाराणसी सीट से कोई उम्मीदवार नहीं उतारा था क्योंकि यह बीजेपी के साथ साथ सभी राजनीतिक दलों के लिए काफी अहम सीट मानी जाती है।साल 2014 के मुकाबले इस बार इस सीट पर बीजेपी और कांग्रेस के बीच कड़ा मुकाबला देखने को मिल सकता है।माना जा रहा है कि जल्द ही कांग्रेस अधिकारिक तौर पर विशंभर नाथ मिश्रा को वाराणसी सीट से उम्मीदवार घोषित कर सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here