बुरी खबर:नही रहे तब्लीगी जमात के अमीर,मुस्लिम दुनिया में उदासी

0
3942
Photo Source-google

दुनियाभर में मशहूर और शक्तिशाली मुसलमानों की सूची में जिनका नाम आता था वो नाम तब्लीगी जमात के अमीर हाजी अब्दुल वहाब का है लेकिन अब वो हमारे बीच नही.इस मारुफ़ हस्ती के नि-धन से भारत ही दुनियाभर के मुस्लिमो में शोक है.अमीर हाजी अब्दुल वहाब 95 वर्ष के थे.दरअसल हाजी अब्दुल वहाब साहब तब्लीगी जमात के संस्थापक मौलाना इल्यास र.आ के साथियों में से थे जिनका शुमार बड़े बड़े उलेमाओं में हुआ करता था और दुनियाभर में मशहूर भी हुए थे।तब्लीग से जुड़ने की वजह से इनका हर देश में हमेशा दौरा रहता था इन्होंने तब्लीग को आगे बढ़ाने में अपना महान योगदान दिया है।

गौरतलब है कि बीते दिनों हाजी अब्दुल वहाब डेंगू बुखार से पीड़ित चल रहे थे जिसका इलाज लाहौर के एक प्राइवेट हॉस्पिटल में चल रहा था लेकिन इलाज के दौरान ही उनका इंतेक़ाल हो गया इससे दुनियाभर के मुसलमानों में शोक का लहर दौड़ पड़ा.आपको बता दें कि पाकिस्तान के सूचना और प्रसारण मंत्री चौधरी फवाद हुसैन और धार्मिक मामलों के मंत्री नूर उल हक कादरी ने अब्दुल वहाब के निधन पर शोक जताया है.

हाजी अब्दुल वहाब का जन्म जनवरी 1923 में दिल्ली में हुआ था,इनका बचपन ज्यादातर भारत में ही बीता इसके बाद हाजी अब्दुल वहाब विभाजन के बाद पाकिस्तान चले गए थे.तब्लीगी मरकज के मुताबिक उनके अंतिम संस्कार का समय बाद में घोषित किया जाएगा.तब्लीगी जमात भारतीय उपमहाद्वीप में सुन्नी मुसलमानों के सबसे बड़े संगठनों में से एक है जिसका मुख्यालय नई दिल्ली में है.संगठन की स्थापना 1920 में भारतीय इस्लामी आलिम मौलाना मुहम्मद इलियास कान्धलवी ने की थी जिनके साथ हाजी अब्दुल वहाब भी थे.

हाजी अब्दुल वहाब के इंतेक़ाल पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी शोक जताया है और कहा कि ”तब्लीगी जमात के अमीर हाजी अब्दुल वहाब के इंतेक़ाल पर दिल बहुत ज़्यादा दुःखी है,इस्लाम की तब्लीग और शांति स्थापना में इनका अमूल्य योगदान है,इनके दुनिया से चले जाने से बहुत बड़ी कमी पैदा होगई है,अल्लाह इनकी मगफिरत करके इन्हें जन्नत में ऊँचे मक़ाम अता करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here