कई तरह के सवाल और उनके जवाब ढूँढती “THE DIARY ON THE FIFTH FLOOR”

0
274
Photo Created by Headline24

आज कल की तेज़ रफ़्तार दुनिया में हमें अपने आपको ही समझने की फुर्सत नहीं है. हम यही नहीं जान पा रहे हैं कि हमारे आस पास क्या हो रहा है या हमारी ख्वाहिशात क्या हैं. कुछ इसी तरह की उलझनों का बयान करती हुई किताब है राईशा लालवानी की “THE DIARY ON THE FIFTH FLOOR”.ये किताब अंग्रेज़ी भाषा में है. एक उच्च-मध्यम वर्गीय लड़की की ज़िन्दगी की खींचतान पर आधारित इस किताब में कई कहानियाँ हैं और उनसे मिलकर बनती एक पूरी कहानी भी.

इस किताब के बारे में हमारी उत्सुकता तब बढ़ी जब इसका रिव्यु हमने साहित्य दुनिया पर पढ़ा. “साहित्य दुनिया” में नेहा शर्मा इसके बारे में लिखती हैं,”ये कहानी है एक लड़की की जो कई तरह के मानसिक उथलपुथल से गुज़र रही है और एक मनोचिकित्सक को अपनी डायरी देते ही उसे ये डर सताता है कि अब एक अनजान इंसान के सामने उसके सारे राज़ बाहर आ जाएँगे। आख़िर इस डायरी में ऐसा क्या लिखा है और किस तरह ये लड़की अपनी मंज़िल तय कर पाती है? क्या उसे अपने सवालों के जवाब मिलते हैं?”

राईशा की ये पहली किताब है, उनकी भाषा सरल है और लिखावट में ताज़गी है. नेहा अपने रिव्यु में आगे कहती हैं,”पूरी किताब में इस तरह की डिटेलिंग नज़र आती है। किसी रूम, किसी व्यक्ति, किसी जगह के बारे में लिखते हुए राईशा अपने लेखन से पूरा चित्र ही उतार देती हैं। उनके पास सामाजिक बदलाव को देखने की एक नज़र है ये बात भी कहानियों में झलकती है। एक फ़िक्शन उपन्यास होते हुए भी इसमें कल्पना से ज़्यादा वास्तविकता नज़र आती है। इन कहानियों को पढ़ते हुए आप अपने आसपास की कई घटनाओं को याद कर पाएँगें और ये कहानी कम बल्कि आपके आसपास की कोई घटना ज़्यादा लगेगी।” रूपा पब्लिकेशन की ओर से प्रकाशित ये किताब आपको भी ज़रूर पसंद आएगी।अगर आपने ये किताब पढ़ी है तो उसके बारे में हमें अपनी राय दे सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here