आखिर क्यों गोल होते है मंदिर मस्जिद और गुरुद्वारे तीनो के गुम्बद, वजह सबकी एक और अनोखी है

0
1859
religious buildings

अलग अलग धर्मो में अलग अलग ही तरह की बाते होती है और हर धर्म की अपनी मान्यताये भी होती है लेकिन सभी का सन्देश तो एक ही होता है जिसमे वो लोग को जोड़ने की बात करते है और साथ ही साथ में मस्जिद या गुरुद्वारे को लेलो तो वहाँ पर भी ऐसी ही बात होती है लेकिन अब अलग अलग लोगो की मान्यताये और काम करने के तरीके थोड़े से अलग जरुर होते है बाकी काफी चीजे होती है जो एक सी नजर आती है और इसी कड़ी में हम आपको ये बतायेंगे कि इन तीनो ही मंदिर मस्जिद और गुरुद्वारों से सभी में ऊपर गुम्बद एक सा क्यों बना होता है? इसके पीछे कुछ तो कारण होता ही होगा।

दरअसल हर धर्म में अपनी अपनी एक स्थापत्य कला होती है जिसमे वो रम जाते है लेकिन कुछ कुछ समानताये भी होती है और ये एक गुम्बद होता है जो ऊपर से कुछ कुछ आसमान जैसा दिखाई देता है और इसका अर्थ बिलकुल आसमान के सामान ही लिया जाता है और उसी के परिपेक्ष में इसका निर्माण भी किया जाता है।

Source: Blogspot

गुम्बद को आसमान के जैसा बनाया जाता है जिसका अर्थ होता है यहाँ पर ही ऊपर वाला है और यहाँ पर नीचे खड़े होकर अपनी प्रार्थानाये और अपनी दुआएं भेजी जाती है जो यहाँ जाती है और उस दुनिया को चलाने वाले को छूकर के दुबारा लौटकर के आती है तो इसी मंशा के साथ इन गुम्बदो को निर्माण करना शुरू किया गया और आज आप देखेंगे तो दुनिया के हर मंदिर मस्जिद या फिर गुरुद्वारे में इस तरह के गुम्बद बने हुए मिलेंगे जो कही ना कही बताते है कि सभी धर्मो का मूल एक ही है चाहे दुनिया उसे कितना ही अलग बताती हो।

ऐसा नही है कि सभी स्थापत्य कलाए एक ही जगह पर विकसित हुई है सभी का उद्भव अलग अलग रहा है लेकिन इसके बावजूद इन्हें खूब पसंद किया जाता रहा है और सभी ने अपने अपने तरीके से इन्हें खूब विकसित भी कर लिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here