रात को देर तक जागने के क्या नुक्सान हैं? ऐसे लोगो के लिए ज़रूरी है इस सुन्नत पर अमल करना

0
1127

आज हम बात करेंगे देर रात तक जागने के नुकसान बारे में।दोस्तों उस कुदरत के इंतजाम पर कुर्बान जाइए कि इंसान को रात को सोना है तो अपने घर की लाइट भी वह ऑफ कर देता है इंसान ऐसा इसलिए करता है क्योंकि उसको पता होता है कि उसको नींद उस वक्त आएगी जब अंधेरा होगा और अल्लाह ने ऐसा ही किया जब रात बनाई तो उन्होंने इंसानों के सुकून के लिए सूरज को भी हटा दिया ताकि इंसान आराम से सो सकें.

अब आप देखिए कि रात को हम कितने सुकून से सोते हैं।लेकिन शायद ही मुस्लिम में एक नया रिवाज़ बन गया है कि रात 3 बजे से पहले कोई सोता नही है.रात के 3 बजे तक सब लोग मोबाइल पर लगे रहते हैं कोई चैटिंग करता है कोई फेसबुक चलाता है तो कोई वीडियो कॉल करता है सभी लोग कहीं ना कहीं लगे होते हैं और दिमाग डाइवर्ट हो जाता है जबकि कुरान में भी यह लिखा है कि रात तुम्हारे सुकून के लिए बनाई गई है.

हम इंसान हैं कि सुकून हासिल करने के लिए तैयार ही नहीं है जबकि साइकोलॉजिस्ट भी यही कहते हैं कि टेंशन दूर करने के लिए आप रात को जल्दी सो जाया करें.जो बात कुरान 1400 साल पहले बता चुका है वह बात आज साइकोलॉजिस्ट बता रहे हैं।हमारे प्यारे नबी सल्लल्लाहू अलैहे वसल्लम ने फरमाया कि बिना जरूरत ईशा के बाद घर से निकला भी मत करो.

हां अगर कोई जरूरी काम है तो आप जा सकते हैं कई बार लोग सोचते हैं कि चलो रात को तफरी कर लेते हैं.दोस्तों से बातें कर लेते हैं लेकिन यह सब मना है।अल्लाह वालों की किरात कुरान ने बयान की है कुरान में अल्लाह ने फरमाया है कि अल्लाह वालों का सुकून शब्दों में होता है वह रात को बहुत मुक्तसर होते हैं.

अगर किसी को नींद नहीं आती है तो कुरान में उसका भी इंतजाम है आप नमाज पढ़िए इबादत कीजिए लेकिन आजकल की जनरेशन सिर्फ मोबाइल चलाती है अगर नींद आती भी है तब भी नहीं सोते हैं लोग देर रात तक चैटिंग करना गाने सुनना एफबी चलाना ज्यादा अच्छा लगता है सबको.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here