रामपुर में सपा नहीं ल’ड़ेगी…आज़म के इस बयान से सपा-बसपा में मचा हडकंप,पढ़े सबसे बड़ी खबर

0
192

उत्तर प्रदेश ही केंद्र की राज’नीति तक पहुंचने का इकलौता जरिया है।क्योंकि इस राज्य में सबसे ज्यादा लोक’सभा सीटें मौजूद हैं।आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में कई लोक’सभा सीटें ऐसी हैं।जहां पर मुस्लिम समुदाय बहुसंख्यक हैं।इन्हीं में से एक है उत्तर प्रदेश की रामपुर लोकसभा सीट।जहां पर 50 फीसदी से ज्यादा जनसंख्या मु’सलमानों की है।गौरतलब है कि यह लोकस’भा क्षेत्र सपा के कद्दावर नेता आज़म खान का गढ़ माना जाता है।

आपको बता दें कि आजादी के बाद से ही रामपुर लोकसभा सीट की गिनती मुस्लिम बहुल सीटों में होती रही है।यहां इस बार के लोकसभा चुनाव को लेकर परिस्थितियां बिल्कुल अलग हैं।दरअसल भारतीय जनता पार्टी रामपुर सीट को अपने पाले में लेने के लिए साम,दाम दं’ड भेद का सहारा ले रही है। इस मामले में सपा के कद्दावर नेता आजम खान ने बयान दिया है कि रामपुर लोकसभा सीट पर निष्पक्ष चुनाव की उम्मीद नहीं की जा सकती।

बता दें कि मीडिया से बातचीत करते हुए सपा नेता आजम खान ने कहा है कि इसे लोकसभा सीट पर पार्टी चुनाव का बहिष्कार करेगी और इस संबंध में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को भी अवगत कराया जाएगा।आजम खान का आरोप है कि भारतीय जनता पार्टी रामपुर लोकसभा सीट को ज्वालामुखी बना रही है।यहां की जौहर यूनिवर्सिटी के खिलाफ साजिश रची जा रही हैं और हमारे स्कूलों को भी निशाना बनाया जा रहा है।

योगी सरकार ने रामपुर में अपनी तानाशाही की हर हद को पार कर चुकी है।भारतीय जनता पार्टी ने शहर में द!हशत का माहौल बना दिया है।इन हालात में लोकसभा चुनाव निष्पक्ष होने की कोई उम्मीद नहीं की जा सकती।हम चुनाव लड़ें या न लड़ें।या चुनाव का बहिष्कार करें।इस बैठक में पदाधिकारियों ने साथ बातचीत कर ये फैसला लिया गया।

इस बैठक में चमरौआ विधायक नसीर खां,स्वार विधायक अब्दुल्ला आजम,पालिकाध्यक्ष पति अजहर खां,पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष मास्टर लाखन सिंह, शाहबाद के पूर्व चेयरमैन मतलूब अंसारी,सपा नगराध्यक्ष आसिम राजा,पूर्व सपा जिलाध्यक्ष ओमेंद्र चौहान,हक रामपुरी आदि मौजूद रहे।इन सभी नेताओं का कहना है कि इस फैसले से राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को भी अवगत कराया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here