पहला बाल सफ़ेद होना अल्लाह का है ऐसा इशारा जो सभी को जानना चाहिए लेकिन इंसान..

0
1943
FI

दुनिया में जो भी इंसान पैदा हुआ है उसे एक दिन हर हाल में म-रना है.यह बात दुनिया के हर इंसान को मालूम है इसलिए हमेशा मौ-त की तैयारी करते रहना चाहिए.दुनिया में जब इंसान आता है तो पैदा होने से लेकर के मौ-त तक के बीच में कई ऐसी निशानी उसके सामने आती हैं जो उसे बताती है कि उसकी मौ-त की तयारी शुरू हो गई है और उसे भी मौत आने वाली है.

इंसान को इन निशानियां से इबरत हासिल करनी चाहिए.इंसान जब पैदा होता है तो उसकी हड्डियां कमजोर होती हैं बाल भी कमजोर होते हैं.चलने फिरने की ताकत नहीं रखता है जब कुछ बड़ा होता है तो चलने लगता है उसके जिसम में मजबूती आने लगती है. बाल लंबे और घने हो जाते हैं.जब वह जवानी में पहुंचता है तो अब वह पूरी तरह से ताकत और तवना रहता है.

लेकिन जवानी के कुछ ही दिन बाद उसके सर के बाल सफेद होने लगते हैं.उस दिन से उसकी जिंदगी पीछे जाने लगती है.जब हमारे बाल सफेद होने लगे तो उसे इससे भी इबरत हासिल करना चाहिए.जिस दिन से बाल सफेद होना शुरू हो तो इंसान को समझ जाना चाहिए वह मौत के मुंह में जाना शुरू हो गया है.उसके लिए यह एक निशानी है.


अब उसकी जिंदगी के दिन कम हो रहे हैं.जैसे जैसे बाल सफेद होते जा रहे हैं उसकी उम्र कम होती जा रही है और उसे एक दिन मर जाना है.वही जो कोई इंसान किसी के जनाजे में जाता है तो उसे वहां भी सोचना चाहिए कि एक दिन मुझे भी यही पर आना है.दुनिया में हर दिन कोई ना कोई मरता है हर इंसान उन्हें दफन करने के लिए जाता है.

दफन करते वक्त यह बात जरूर सोचना चाहिए उसको भी एक दिन इसी तरीके से दफन किया जाएगा और उसे भी यहीं पर ला करके कफ़न पहनाया जाएगा.इसलिए हमेशा इंसान को याद रखनी चाहिए मौत के निशानों से उसे इबरत लेनी चाहिए.
विडियो देखे-

ये आर्टिकल मौलाना तारिक मसूद द्वारा दिए गये बयान पर आधारित है जिसका लिंक ऊपर दिया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here