मियां बीबी क्या बिना कपड़ो के सो सकते है?,मौलाना ने बताया…

0
2650
FI-HUSBAND & wife

अल्लाह ने बीवी और के अलावा हर किसी से अपनी शर्मगाह की हिफाजत का हुक्म दिया है।बीवी से हिफाज़त न करने मे कोई हर्ज नहीं है,सुन्नत नबवी सल्लल्लाहु वस्सलाम में भी इसकी दलील मिलती है.हज़रत आइशा र.अ. बयान करती है कि “मैं और नबीये करीम सल्लल्लाहु अलैही वस्सलम एक ही बरतन से गुस्ल किया करते थे.”

हाफ़िज़ इब्न हजर रहमतुल्लाह अलैही कहते हैं कि मर्द अपनी बीवी और बीवी अपने मर्द की शर्मगाह देख सकते हैं और इस बात की हक़ीक़त नीचे लिखि गई हदीस से भी पता चलती है.इब्न हुबान रहमतुल्लाह अलैही ने सुलेमान बिन मूसा से बयान किया है कि उनसे ऐसे शख्स के बारे मे पूछा गया जो अपनी बीवी की शर्मगाह देखता है तो उन्होंने कहा कि मैंने ( उसके मुताल्लिक) अता रहमतुल्लाह अलैही से सवाल किया तो उनका कहना है कि मैने आयशा र.अ. से ये सवाल किया तो उन्होंने इसी हदीस का ज़िक्र किया था.

हाफिज इब्न हजर रहमतुल्लाह अलैही का कहना है कि सुन्नते नबवी में एक और हदीस भी मिलती है जिसमें मज़कूर है कि अपनी बीवी के अलावा अपनी शर्मगाह की हर एक से हिफाज़त करो.इमाम इब्न हज़्म र.अ. कहते हैं कि मर्द के लिए कपनी बीवी की शर्मगाह देखना जायज़ है,उसी तरह वो दोनों भी मर्द की शर्मगाह देख सकती है.

शेख अल्बानी र .अ .ने इरशाद फरमाया की जब अल्लाह ने शौहर के लिए बीवी से हमबिस्तरी को जायज़ करार दिया है तो क्या उसके लिए शर्मगाह को देखने से मना किया होगा? ऐसा नही हो सकता है और सवाल का जो दूसरा पहलू है कि उस हालात मे पाकीज़गी का क्या हुक्म है? का जवाब ये है कि अगर बिना कपड़े के सोते वक्त दोनों के बस जिस्म आपस मे सटे है और दूसरी कोई जिस्मानी हरकत नहीं हुई है या दोनों में से कोई फारिग नहीं हुआ है तो ऐसे मे ग़ुस्ल वाजिब नहीं है सिर्फ वज़ू ही कर लेना काफी है।हाँ अगर मज़ी निकली हो तो अपनी शर्मगाह को धो कर वज़ू करना चाहिए यानी दोनो इस्तनजा कर के वज़ू कर ले ग़ुस्ल की ज़रूरत नहीं है.

अधिक जानकारी के लिए नीचे वाले विडियो को सुन सकते है-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here