कश्मीरी हिन्दू लड़की भी किसी दुसरे राज्य के लड़के से नही करती है शादी,जाने वज़ह

0
2511

जम्मू कश्मीर भारत का एक ऐसा इकलौता राज्य है,जहां पर आए दिन बॉ’र्डर पर सीजफा’यर का उल्लंघन होता है।भारतीय सेना और आतं’कियों के बीच मु’ठ’भेड़ यहाँ पर आम बात है.हाल ही में जम्मू कश्मीर के पु’लवामा में हुए आ’तंकी ह’मले में मा’रे गए सीआरपीएफ के जवानों को लेकर देशभर में आक्रो’श का माहौल था.

बीते महीने कुछ लोगो ने जम्मू कश्मीर से धारा 370 को हटाए जाने की मांग भी की.हलाकि बहुत से लोग इस धारा के समर्थन में भी है.क्या आप जानते हैं कि आखिर धारा 370 है और क्यों कश्मीर की लड़कियां दूसरे राज्यों के लड़कों से शादी नहीं करती हैं.आइए आपको इससे मामले पर जानकारी देते हैं.जम्मू-कश्मीर राज्य को कुछ विशेष अधिकार मिले हैं और यह धारा 370 के कारण मुमकिन हुआ.

धारा 370 पर भारतीय राजनीति में उठा पटक होती रहती है.धारा 370 भारतीय संविधान का एक विशेष अनुच्छेद यानी धारा है,जो जम्मू-कश्मीर को भारत में अन्य राज्यों के मुकाबले विशेष अधिकार प्रदान करती है.धारा 370 संविधान में दिया गया एक ऐसा प्रावधान है जो जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्ज़ा देता है.भगवा संघठन धारा 370 खत्म करने की मांग उठाते रहे है.

वही कश्मीर में रह रहे लोग धारा 370 के समर्थन में है.बता दे कि भारत में विलय के समय कश्मीर के महाराजा ने भारत सरकार के साथ समझौता किया जिसमे कश्मीर को ये विशेष अधिकार मिल गये थे.भारत में जम्मू कश्मीर एक ऐसा राज्य है जहाँ राज्य का एक अलग झंडा है.ऐसा कहा जाता है कि कश्मीर की लड़कियां काफी खूबसूरत होती हैं.

muslim women

इनकी खूबसूरती का मुकाबला नहीं कर सकता.बता दें कि अगर कश्मीर की लड़कियां अपने राज्य के बाहर के लड़के से शादी करती हैं तो उनसे कश्मीर की नागरिकता छीन ली जाती है.यानी कि शादी के बाद वह लड़की कश्मीरी नागरिक नहीं मानी जाएगी लेकिन दोस्तों ये एक वज़ह है आखिर क्यों

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here