क्या जन्नत में बच्चे पैदा होंगे ? मुश्किल सवाल का उलेमा ने दिया जवाब

0
1079
FI

इस्लाम के मुताबिक जो लोग दुनिया में अच्छे काम करते हैं,वह मरने के बाद जन्नत में जाएँगे और वहाँ पर उनका निकाह किया जाएगा.उन्हें जन्नत में सारे आराम दिये जाएँगे तो एक सवाल उठता है कि जब जन्नती लोग शादी करेंगे,तो क्या उनके बच्चे भी पैदा होंगे।आज हम इस लेख में इसी बात का जवाब देने जा रहे हैं.

इस बारे में कुछ उलेमाओ का कहना है कि जन्नत में जो लोग चाहेंगे,उन्हें औलाद मिल जाये,तो उन्हें अल्लाह ताला की तरफ से औलाद पैदा किया जाएगा लेकिन जो लोग नहीं चाहेंगे उन्हें नहीं दिया जाएगा।इस बारे में तिरमिज़ी शरीफ की एक हदीस है,अब्बू सईद ख़ुदरी रज़ी अल्लाहु अनहु कहते हैं कि रसूल अल्लाह सललल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया इंसान जन्नत में जब औलाद चाहेगा तो हमल,ज़चगी और परवरिश उसी वक़्त हो जाएगी जैसे वो चाहेगा.

चीनी मुस्लिम

इस हदीस का मतलब यह है कि इंसान जैसे ही चाहेगा,उसी वक़्त उसकी बीवी के बच्चा पैदा हो जाएगा.यानी उसे लड़का चाहिए या लड़की जो चाहेगा वही होगा।जबकि दीगर कुछ अह्ले इल्म का कहना है कि जन्नत में बीवी के साथ हमबिस्तरी तो होगी लेकिन इस की वजह से औलाद नहीं होगी,चुनांचे इमाम बुख़ारी कहते हैं.

“अब्बू रज़ीन अकेली से रिवायत किया गया है वो नबी सललल्लाहु अलैहि वसल्लम से बयान करते हैं कि आपने फ़रमाया जन्नतियों के हाँ औलाद नहीं होगी।इस हदीस की तरफ़ इमाम बुख़ारी ने इशारा किया है और इमाम अहमद ने अब्बू रज़ीन अकेली रज़ी अल्लाहु अनहु से एक लंबी हदीस में ज़िक्र किया है और मस्नद अहमद में ये भी इज़ाफ़ा है कि नेक मर्द-ओ-ख़वातीन जन्नत में ऐसे ही लज़्ज़त पाएँगे,जैसे तुम दुनिया में लज़्ज़त पाते हो और वो तुमसे लज़्ज़त हासिल करती हैं लेकिन वहां औलाद नहीं होगी.

सही मुस्लिम में साबित है कि नबी सललल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया जन्नत में जगह बाक़ी रहेगी,और अल्लाह तआला इस ख़ाली जगह के लिए एक मख़लूक़ पैदा फ़र्मा कर उन्हें जन्नत के ख़ाली हिस्से में आबाद करेगा…..मुस्लिम:(5085),चुनांचे अगर जन्नत में विलादत का सिलसिला जारी होता तो जन्नतियों की औलाद इस ख़ाली जगह की हक़दार होती, और उनका हक़ इस पर दूसरों से ज़्यादा भी हक़ होता.

जन्नत का डेमो चित्र

जन्नत में इन्सान की उम्र नहीं बढ़ेगी. जैसे दुनिया में होती है,चुनांचे ना तो बच्चे बड़े होंगे,जसामत बच्चों वाली ही रहेगी और ना ही बड़ों की उमरें बढ़ेंगी, बल्कि ये बच्चे हमेशा छोटे ही रहेंगे,उनकी जसामत में कोई तबदीली नहीं आएगी जबकि बड़े लोग हमेशा 33 साला कुड़ेल नौजवान रहेंगे,उनमें भी किसी किस्म की कोई तबदीली नहीं आएगी.

चुनांचे अगर जन्नत में पैदाइश का तसव्वुर होता तो इस बच्चे के बड़े होने की ज़रूरत लाज़िमी पेश आती ताकि वो भी बड़ा हो कर नौजवान बने.इस लिए बहुत सारे उलमा कहते हैं कि जन्नत में बच्चे पैदा नहीं होंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here