कोलकाता में पहली बार मुस्लिम मेयर,जानिए क्यों ममता ने लिया ये फैसला ?

0
2061

पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में पहली बार किसी मुस्लिम को मेयर बनने का अवसर मिल रहा है.खबर के अनुसार,पश्चिम बंगाल के दिग्गज नेता एवं मंत्री फिरहाद हकीम को इतिहास रचने का अवसर मिल गया है.बता दे कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मनमुटाव के बाद पश्चिम बंगाल के दमकल व अावासन मामलों के मंत्री शोभन चटर्जी ने गुरुवार को कोलकाता के मेयर पद से भी इस्तीफा दे दिया.

उन्होंने अपने फैसले पर कोई टिप्पड़ी ना करते हुए कोलकाता नगर निगम की चेयरपर्सन माला राय को उन्होंने अपना इस्तीफा सौंप दिया है.सीएम ममता बनर्जी ने चटर्जी के इस्तीफे के पीछे कहाकि वो पहले ही इस्तीफ़ा देना चाहते थे लेकिन उन्होंने ऐसा करने से रोक दिया इस बार चटर्जी का इस्तीफा स्वीकार कर लिया गया.स्थानीय मीडिया की खबर के अनुसार,बंगाल के शहरी विकास एवं नगरपालिका मामलों के मंत्री फिरहाद हकीम का कोलकाता का नया मेयर बनना लगभग तय हो गया.अतिन घोष डिप्टी मेयर बनेंगे.गुरुवार की शाम को इसका आधिकारिक एलान किया जायेगा.

मीडिया सूत्रों का दावा है कि सीएम ममता बनर्जी शोभन चटर्जी के कामकाज से खुश नही थी इसलिए उन्होंने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था.इस पर ममता बनर्जी ने उन्हें मेयर का भी पद छोड़ने के लिए कहा था.चटर्जी ने बुधवार को मंत्री पद से और गुरुवार को मेयर पद से इस्तीफा दे दिया.शोभन चटर्जी के इस्तीफा देने के बाद सूत्रों ने इस बात की पुष्टि कर दी कि फिरहाद हकीम कोलकाता के नये मेयर होंगे। कोलकाता नगर निगम में मेयर परिषद के सदस्य अतिन घोष डिप्टी मेयर का पद संभालेंगे.गौरतलब है कि ममता बनर्जी राज्य के 29 पर्तिशत मुस्लिम मतदाताओ को अपने पक्ष में एकजुट करना चाहती है जानकारों के अनुसार,इस फैसले के बाद एक बार फिर ममता बनर्जी ने साफ़ सन्देश दे दिया है जिसका उन्हें लोकसभा चुनाव में फायदा मिल सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here