भाजपा को हराने के लिए कांग्रेस का अपनी सबसे बड़ी विरोधी से गठबंधन ?,बदल गये समीकरण

0
218

अगले महीने होने वाले लोकसभा चुनाव के मद्देनजर सभी राजनीतिक दल अप चुनाव के प्रचार प्रचार में जुटे हुए हैं।बात करें दिल्ली की तो यहां पर आम आदमी पार्टी और कांग्रेस ने एक दूसरे के साथ गठबंधन न करने का एलान किया था। लेकिन भारतीय जनता पार्टी को हराने के लिए आम आदमी पार्टी ने कांग्रेस के साथ गठबंधन करने के बारे में विचार किया था।जिसे लेकर कांग्रेस आप दो खेमों में बंट गई है। सूत्रों का दावा है कांग्रेस आम आदमी पार्टी से गठबंधन को लेकर एक राय बन चुकी है.

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस प्रभारी पीसी चाको और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन का गठबंधन के पक्ष में हैं तो मौजूदा प्रदेश अध्यक्ष शीला दीक्षित इसके खिलाफ हैं।आपको बता दें कि दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री और मौजूदा प्रदेश अध्यक्ष शीला दीक्षित ने आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन पर आपत्ति जताते हुए कहा है कि दिल्ली प्रभारी पीसी चाको पार्टी के साथ गठबंधन क्यों करना चाह रहे हैं।जबकि पहले गठबंधन का चैप्टर खत्म हो चुका है।वहीं गठबंधन को लेकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं से की गई रायशुमारी पर भी इस मुद्दे को लेकर मतभेद सामने आए हैं।


अजय माकन-शीला दीक्षित

पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन ने शीला दीक्षित व गठबंधन पर उठाई जाने वाली उंगली को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का सीधा विरोध माना है।आपको बता दें एक हफ्ते पहले ही पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ दिल्ली के नेताओं की बैठक में भी इस मुद्दे पर आपसी तकरार हुई थी।अब इस गठबंधन पर कांग्रेस के शक्ति ऐप से जुड़े प्रदेश के करीब 55 हजार कार्यकर्ताओं से रायशुमारी किए जाने से विवाद और बढ़ गया है।

पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन ने शक्ति एप के जरिए हो रही रायशुमारी ऊपर कहा था कि यह रायशुमारी राहुल गांधी के निर्देश पर हो रही है और इस पर सवाल उठाना गलत है।इसके साथ उन्होंने यह भी कहा था कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी पार्टी के फैसलों में कार्यकर्ताओं को शामिल करने की बात कर रहे थे। कांग्रेस ने इसे लागू करके उन्हें यह संदेश दिया है कि उनका स्वागत किया जाना चाहिए।


सीएम केजरीवाल

अजय माकन ने भी गठबंधन के पक्ष में अपनी राय दे दी है.आपको बता दें कि शक्ति ऐप पर हो रही इस रायशुमारी में दिल्ली कांग्रेस के प्रभारी द्वारा कहा जा रहा है कि मैं दिल्ली कांग्रेस का प्रभारी पीसी चाको बोल रहा हूं। अगर आप आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन के पक्ष में हैं तो एक नंबर दबाएं और अगर नहीं तो दो नंबर दबाएं।इस एप के रुझानो से कांग्रेस को आप के पक्ष में गठबंधन करने के पक्ष में समर्थन मिला है.सूत्रों का दावा है अब आप और कांग्रेस के बीच गठबंधन लगभग तय है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here