इस राज्य में कांग्रेस और भाजपा ने किया गठबंधन,हैरान रह गया ये क्षेत्रीय दल

0
1705
Rahul Gandhi

कहते है राजनीति में कुछ भी नामुमकिन नहीं है और ऐसा सही होता भी दिख रहा है,भाजपा और कांग्रेस राष्ट्रिय स्तर पर एक दूसरे की धुर विरोधी है लेकिन अब दोनों ने मिलकर एक राज्य में गठबंधन करके क्षेत्रीय दल को हरा दिया है.दिल्ली के नगर निगम चुनाव में कांग्रेस और भाजपा ने गठबंधन करके आम आदमी पार्टी को हरा दिया।

नार्थ दिल्ली नगर के जोन चुनाव में कांग्रेस ने अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के पद पर जीत हासिल कर ली है लेकिन कांग्रेस की ये जीत भाजपा से अघोषित गठबंधन के कारण हुई है.भाजपा के सदस्यों ने आप को हराने के लिए कांग्रेस को वोट दिया।इस वजह से AAP के ज़्यादा सदस्य होने के बाद भी उसे हार का सामना करना पड़ा.


इनको मिली जीत-दरअसल नार्थ एमसीडी के जोन इलेक्शन में कांग्रेस उम्मीदवार सीमा ताहिरा जोन चेयरमैन ओर सुलक्षणा डिप्टी चैयरमेन का चुनाव जीत गईं.कांग्रेस के दोनों उम्मीदवारों को 9-9 वोट मिले.जबकि कांग्रेस के पास सिर्फ 6 पार्षदों का ही वोट था.कांग्रेस की जीत में अहम रोल निभाने वाले तीन वोट बीजेपी से मिले.

जबकि नगर निगम जोन में AAP के 8 पार्षद होने के बावजूद AAP चेयरमैन,डिप्टी चैयरमेन और स्टैंडिंग कमेटी के चुनाव में हार मिली क्योंकि बीजेपी और कांग्रेस ने मिलकर जोन में बहुमत का जादुई आंकड़ा 9 हासिल कर लिया.कांग्रेस को एमसीडी में ये जीत बीजेपी ने यूं ही गिफ्ट नहीं की है.दरअसल बीजेपी की नजर सिटी जोन में पड़ने वाली 4 विधानसभा सीटें चांदनी चौक,मटिया महल,सदर बाजार और बल्लीमारान पर है.भाजपा की रणनीति यहाँ कांग्रेस को मज़बूत करने की है.

भाजपा ने ये कहा…कांग्रेस नेता मुकेश गोयल ने तीन में से दो पदों पर कांग्रेस की जीत पर कहा कि यह जीत कांग्रेस की कूटनीति और राजनीतिक सुझबूझ का परिणाम है.कांग्रेस की जीत पर आम आदमी पार्टी की ओर लगाये गए आरोप पर गोयल ने कहा कि अपनी नाकामी व अंतरकलह से बचने के लिए AAP के नेता मनगढंत आरोप लगा रहे हैं.क्योंकि आम आदमी पार्टी टूट के कगार पर है.पार्टी में जबरदस्त अंतरकलह व मतभेद चल रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here