अल्लाह ने चींटी को कब और क्यों पैदा किया है?हज़रत अली (र.अ.) ने फ़रमाया कि..

0
98

हर जानवर या कीड़े की कोई ना कोई ऐसी उपयोगिता होती है.अल्लाह ने हर मखलूक को कोई न कोई ऐसी नायब चीज़ सौपी है जो उनका दुनिया में आने का मकसद पूरा करती है.आज हम चींटी के बारे में बताने जा रहे है.हजरत अली का फरमान है हर मखलूक को अल्लाह ने नायाब हुनर सौपा है.साइंसटिस्टो का कहना है कि चींटी वातावरण में संतुलन का काम करती है.

चींटी च्यूंटीयां मिल-जुल कर रहती हैं।चियूंटियों की बस्ती में सैंकड़ों,हज़ारों बल्कि लाखों च्यूंटीयां रह सकती हैं।बस्ती में रहने वाली सब च्यूंटीयां हर वक़त मसरूफ़ रहती हैं।सब के ज़िम्मे कोई ना कोई काम होता है।उनमें कोई चियूंटी फ़ारिग़ नहीं होती।सब मिलकर एक दूसरे की हिफ़ाज़त और खाने का बंद-ओ-बस्त करती हैं।

वो अपने बच्चों को मिलकर पालती और उनका ख़्याल रखती हैं।कुछ च्यूंटीयां अंडे देती हैं तो कुछ खाना इकट्ठा करती हैं।कुछ का काम सबकी हिफ़ाज़त के लिए दुश्मनों के साथ लड़ना होता है।च्योंटों की बस्ती ज़मीन के नीचे,किसी टीले पर और यहां तक कि दरख़्तों पर भी हो सकती है।च्यूंटीयां जब अपनी बस्ती तामीर करती ही तो बहुत सा कचरा,उस के दाख़िल होने वाले रास्ते पर जमा कर देती हैं।

चियूंटियों की बस्ती की पूरी आबादी तीन हिस्सों में बटी होती है।एक बस्ती में मलिका च्यूंटीयां,दूसरी में काम करने वाली च्यूंटीयां और तीसरी में नर च्यूंटीयां। मलिका चियूंटी अपने नाम से क़त-ए-नज़र बाक़ी चियूंटियों पर हुकूमत नहीं करती।इस का काम सिर्फ अंडे देना है।अगर वो अंडे ना दे तो ख़दशा है कि चियूंटियों की नसल ही ख़त्म हो जाये।

चियूंटियों के ख़ानदान में सिर्फ मलिका ही अंडे देने की सलाहियत रखती है इस की उम्र भी दीगर चियूंटियों के मुक़ाबले में ज़्यादा होती हैवो दस से बीस साल तक ज़िंदा रह सकती है एक बस्ती में एक या एक ज़्यादा मलिका च्यूंटीयां हो सकती हैं।काम करने वाली च्यूंटीयां अपनी जसामत के एतबार से सबसे छोटी होती हैं मगर बस्ती के सारे काम उन्ही के ज़िम्मे होते हैं.

ये माद्दा च्यूंटीयां होती हैं और मलिका और इस के बच्चों का ख़्याल रखती हैं बस्ती की तामीर और मुरम्मत का काम भी उन्ही के ज़िम्मे होता है।वो बस्ती में रहने वालों के लिए खाना इकट्ठा करती हैं और बस्ती को दुश्मनों से बचा कर रखती हैं.काम करने वाली च्यूंटीयां एक से पाँच साल तक ज़िंदा रह सकती हैं.

नर च्यूंटीयां सिर्फ़ चंद हफ़्तों या महीनों के लिए ज़िंदा रहती हैं वो कोई काम नहीं करतीं।उनका काम अंडे पैदा करने के लिए मलिका चियूंटी की मदद करना होता है उनकी मदद के बग़ैर मलिका अंडे नहीं दे सकती.ऐसा करने के बाद वो मर जाती हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here