CBI चीफ नही बन पाने पर आईपीएस जावीद अहमद ने थोड़ी चुप्पी,वायरल हुई पोस्ट

0
1003

शनिवार को सीबीआई का नया प्रमुख चुन लिया गया है.सीबीआई के नए डॉयरेक्टर 1983 बैच के आईपीएस ऋषि कुमार शुक्ला बनाए गए हैं.वहीं ऋषि कुमार शुक्ला के सीबीआई चीफ बनते ही एक बार फिर आईपीएस अफसरों में जंग छिड़ गई है.सीबीआई डॉयरेक्टर न बनाए जाने के बाद सोशल मीडिया पर यूपी के पूर्व डीजीपी जावीद अहमद के मैसेज का स्क्रीनशॉट खूब वायरल हो रहा है.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार,जावीद अहमद योग्यता के मामले में सबसे उपर थे लेकिन केंद्र सरकार ने उनकी सीबीआई में ताज पोशी नही की.सीबीआई चीफ न बन पाने के बाद आईपीएस व्हाट्सएप ग्रुप में जावीद अहमद ने जो प्रतिक्रिया दी उसे देखकर कोई भी हैरान हो जाएगा.उन्होंने कहा है कि मुसलमान होने की वजह से उन्हे सीबीआई डॉयरेक्टर नहीं बनाया गया है.

गौरतलब है कि शनिवार को प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली चयन समीति में देश की सबसे बड़ी जांच ऐजेंसी सीबीआई के प्रमख के लिए 1983 बैच के आईपीएस अधिकारी ऋषि कुमार शुक्ला के नाम पर मुहर लगा दी गई.बता दें कि उमीदवारों की लिस्ट में शुक्ला के अलावा सीआरपीएफ के डीजी आरआर भटनागर,सीबीआई के स्पेशल डॉयरेक्टर अरविंद कुमार,आईपीएस अधिकारी जावीद अहमद,बीएसएफ के चीफ रजनी कांत मिश्रा और हरियाणा कैडर के आईपीएस अधिकारी एस एस देशवाल के नाम भी शामिल थे.लेकिन ऋषि कुमार शुक्ला ने 80 अधिकारियों को पछाड़ते हुए आखिरकार बाजी मार ली.

शुक्ला का नाम सीबीआई डायरेक्टर के लिए घोषित होते ही आईपीएस अफसरों के व्हाट्सएप ग्रुप पर एक मैसेज जमकर वायरल हो रहा है.ये मैसेज आईपीएस अधिकारी जावीद अहमद का है.जिसमें उन्होने लिखा है.‘अल्लाह की मर्जी। बुरा तो लगता है पर ‘एम’ होना गुनाह है’.

आपको बता कि सीबीआई प्रमुख न बनाए जाने पर आईपीएस व्हाट्सएप ग्रुप पर मैसेज करने वाले जावीद अहमद सीबीआई में लंबे समय पर बड़े पद पर रहे हैं वहीं वे उत्तर प्रदेश के डीजीपी भी रह चुके हैं.

ABP न्यूज़ से जुड़े पत्रकार पंकज झा ने एक ट्वीट करके दावा किया कि सीबीआई प्रमुख चुने जाने की प्रक्रिया में जावीद अहमद सर्विस मानको के अनुसार सबसे ज्यादा अंक पाकर योग्यता के मामले में सबसे आगे थे/

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here