BJP को लगा झटका,इस दलित सांसद ने दिया इस्तीफ़ा,अल्पमत में आई मोदी सरकार

0
977
Amit Shah (Left)-Narendra Modi(Right)

लखनऊ-लोकसभा 2019 के चुनाव के पहले जहां सभी पार्टियां अपने अपने तरीके से चुनावी रणनीति में लगी हुई है वहीं उत्तर प्रदेश में भाजपा बुलंदशहर के मुद्दे से जनता और विपक्ष से घिरी हुई है और इसी बीच भाजपा को एक बार फिर से बहुत बड़ा झटका लगा है,कारण है की,भारतीय जनता पार्टी मे दलितों के हक की लड़ाई लड़ने और साथ ही साथ फायर बिग्रेड नेता कहीं जाने वाली बहराइच के सांसद सावित्रीबाई फुले ने भाजपा से इस्तीफा दे दिया है।

अक्‍सर पार्टी लाइन से हटकर बयान देने वालीं फुले ने एक बार फिर बीजेपी के खिलाफ ऐसा ही बयान दिया है।उन्होंने कहा कि पार्टी समाज में विभाजन पैदा कर रही है और इसलिए वह बीजेपी से अपना नाता तोड़ रही हैं।सांसद सावित्री बाई फुले ने इस्तीफा देने के कारण का जवाब देते हुए कहा कि वह भाजपा की नीतियों से खासा नाराज है।उन्होंने भाजपा पर आरोप लगाया कि वह देश को बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर के द्वारा बनाए गए संविधान के अनुसार से नहीं चलाना चाहती है बल्कि देश को मनुस्मृति से चलाना चाहती है।

सावित्रीबाई फुले ने बताया कि जब भी वह भारतीय जनता पार्टी के किसी नेता कार्यकर्ता और साथ ही साथ आर एस एस के प्रमुख के द्वारा ऐसी बातें सुनती है तो यह उन्हें बिलकुल पसंद नहीं आता है। साथ ही साथ उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर दलित विरोधी बयानबाजी करने का आरोप लगाया।दरअसल सावित्रीबाई फुले आज बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर महापरिनिर्वाण दिवस पर लखनऊ के कैपिटल हाल में आयोजित समारोह में बतौर अतिथि शामिल हुईं।

इस दौरान उन्होंने भाजपा पर गंभीर आरोप लगाए।उन्होंने कहा कि बीजेपी दलित,पिछड़ा व मुस्लिम विरोधी है और आरक्षण खत्म करना चाह रही है।उन्होंने कहा,”पुन:विहिप,भाजपा और आरएसएस से जुड़े संगठनों द्वारा अयोध्या में 1992 जैसी स्थिति पैदा कर समाज में विभाजन एवं सांप्रदायिक तनाव की स्थिति पैदा करने की कोशिश की जा रही है।इसलिए आहत होकर मैं भाजपा की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे रही हूं।” 

आपको बता दें कि सावित्रीबाई फुले किसी ना किसी बयान से विवादों में बनी रहती हैं।अभी कुछ ही दिन पहले उन्होंने योगी आदित्यनाथ के बयान जिसमें उन्होंने कहा था कि हनुमान जी दलित है पर भी अपनी प्रतिक्रिया दी थी।फुले ने कहा बजरंगबली अगर दलित नहीं थे तो उन्हें इंसान क्यों नहीं बनाया गया उन्हें बंदर क्यों बनाया गया?उनके मुंह में कालिख क्यों लगाई गई और पूछे क्यों लगाई गई? बता दें कि सावित्रीबाई फुले ने हाल ही भगवान राम को लेकर एक विवादित बयान दिया था।उन्होंने भगवान राम को मनुवादी बताया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here