भारत से पिटने के बाद रो रहे ‘पाक’ को इस बड़े संघठन का मिला सहारा,भारत के खिलाफ…

0
873

कल भारतीय वायु सेना द्वारा पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में स्थित आ’तंकी संगठनों के शिविरों पर की गई एयर स्ट्राइक की दुनियाभर में चर्चा हो रही है। पुलवामा ह’मले को लेकर भारत की तरफ से की गई जवाबी कार्रवाई में भारतीय वायुसेना के जवानों ने एलओसी के पार जाकर आ’तंकी कैंप पर हमला बोला और उनके कई आतंकवादी कैंपों को ध्व’स्त कर दिया।

इस एयर स्ट्राइक में पीओके के मुज्जफराबाद,चकोटी और बालाकोट में कई आ’तंकी मार गिराए हैं।भारत द्वारा की गई इस कार्रवाई से पाकिस्तान सरकार तिलमिलाई हुई है।पाकिस्तान का आरोप है कि भारतीय वायुसेना ने मुजफ्फराबाद सेक्टर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) का उल्लंघन किया है।इस मामले में जहाँ देशभर में भारत सरकार की जय-जयकार हो रही है।

वहीँ ऑर्गनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कोऑपरेशन (ओआईसी) ने भारत की ओर से लाइन ऑफ कंट्रोल (एलओसी) के पार हुए हवाई ह’मले की कड़े शब्दों में निं;दा की है।सोशल मीडिया साइट पर किए गए एक ट्वीट में ओआईसी ने लिखा है कि इस्लामिक संगठन ऑर्गेनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कॉरपोरेशन 26 फरवरी को भारत वायु सेना द्वारा पाकिस्तान में की गई कार्रवाई,हवाई उल्लंघन और चार ब’म गिराए जाने की कार्यवाही की कड़ी आलोचना करता है।

ओआईसी ने कहा है कि दोनों देशों में बढ़ रहे तनाव को कम करने के बारे में सोचना चाहिए।दोनों देश ऐसा कोई कदम न उठाए जिससे भारत-पाकिस्तान के इलाके में शांति और सुरक्षा खतरे में पड़ती हो। दोनों पक्षों को जवाब देने के साथ-साथ मौजूदा संकट से निपटने और इस समस्या का शांतिपूर्ण समाधान निकालने की अपील की है।

इस अपील में भारत और पाकिस्तान को ओआईसी ने यह सलाह दी है कि दोनों देश बल का इस्तेमाल किए बिना देश के मुद्दों को सुलझाएं।इस वक्त भारत पाकिस्तान में जिस तरह का त’नाव पैदा हुआ है।इसे सुलझाने के लिए दोनों देशों को बातचीत का सहारा लेना चाहिए।बता दें कि पीओके में मौजूद आ’तंकी शिविरों पर हवाई हमले करने का आखिरी फैसला देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में लिया गया था।इस बैठक में गृहमंत्री राजनाथ सिंह,रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण,एनएसए डोभाल और वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल बीरेंद्र सिंह धनोआ मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here