अमीर बनने का आसान रास्ता,नबी करीम (स.अ.व.) ने फरमाया

0
1075
FI

दुनिया में जीतने इंसान पैदा हुये हैं,सब की रोज़ी लिख दी गई है और वह रोज़ी इंसान को मिलकर रहेगी,इसे लेने से कोई रोक नहीं पाएगा।हर इंसान के लिए एक हिस्सा लिख दिया गया है और वह हिस्सा मिलेगा।उस से न ज़्यादा मिलेगा,और न ही कम।इंसान अगर अल्लाह ताला के बताए हुये तरीके के मुताबिक रोज़ी हासिल करने के लिए कोशिश करे तो उसके कई फायदे भी हैं।

हुजुर पाक का कहना है जो शख्स हलाल रोटी रोज़ी कमाता है वो एक अमीर शख्स है.इसलिए कुरान हदीस में जगह जगह कहा गया है कि अपनी रोज़ी को हलाल जरिये से कमाओ,हराम जरिये से न कमाओ,जो रोज़ी लिखी हुई है,वह ज़रूर मिलेगी,लेकिन हमें तरीका हलाल अपनाना चाहिए,ताकि उस रोज़ी में बरकत हो सके।

मदीना शरीफ

आज कल लोग परेशान हो जाते हैं तो कुछ भी कर गुजरने के लिए सोचने लगते हैं और उनके दिल में यह बात आती है कि रुपया हासिल करें,चाहे जो भी तारीका हो.लेकिन यह खयाल गलत है हराम तरीके से कमाई गई दौलत में बरकत नहीं होती है.

वह रोज़ी चंद दिन में ही खत्म हो जाएगी,लेकिन अगर हलाल तरीके से रुपया कमाएंगे तो वह उस में बरकत होगी और इस दौलत से इंसान बहुत बड़ा आदमी भी बन सकता है।हदीस में आया है कि इंसान को रोजी इस तरह से तलाश करती है जिस तरह से उसकी मौत उसे तलाश करती है.दोस्तों इस हदीस का मतलब यह है कि कोई भी इंसान मौत से बच नहीं सकता है.

मदीना शरीफ

जब इंसान की मौत का वक़्त हो जाता है,तो वह कहीं भी होता है,मौ’त उसे आकर रहती है.इसी तरह से इंसान के नसीब में जो रोज़ी लिखी हुई है,वह उसे मिलकर रहेगी,चाहे वह कहीं भी हो।हाँ हम जो काम करते हैं,उस में हमें हमेशा इस बात का ध्यान रखान चाहिए कि यह हलाल रास्ता है या हराम रास्ता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here