3 तलाक़ बिल को लेकर टेंशन में भाजपा,अब अपनों ने ही शुरू किया विरोध

0
699
FI-अमित शाह एवं प्रतीकात्मक मुस्लिम महिलाये

एक बार फिर मोदी सरकार ने तीन तलाक़ बिल को पास कराने के लिए लोकसभा एवं राज्य सभा में लाने का इरादा किया है,जहाँ लोकसभा में भाजपा का बहुमत है वही राजयसभा में भाजपा के लिए अभी भी दूसरे दलों से समर्थन की मोहताज़ है क्युकी उसके पास प्रस्ताव पास कराने लायक बहुमत नहीं है.तीन तलाक़ बिल को लेकर भाजपा की राहें आसान नहीं दिख रही है क्यूकी अब सहयोगी दल भी समर्थन देने को तैयार नहीं है.

बिहार सीएम नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल युनाइटेड भी तीन तलाक का समर्थन नहीं करेगी.बिहार सीएम नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल युनाइटेड ने कहा कि वह तीन तलाक के मुद्दे पर राज्यसभा में बीजेपी नेतृत्व वाली एनडीए सरकार का समर्थन नहीं करेगी.जेडी (यू) के वरिष्ठ नेता और बिहार के मंत्री श्याम रजक ने कहा,’जेडीयू इसके खिलाफ है और हम इसके खिलाफ लगातार खड़े रहेंगे.’

फोटो-श्याम रजक(जेडीयू नेता)
फोटो क्रेडिट-ANI

जेडीयू नेता ने कहा कि तीन तलाक एक सामाजिक मुद्दा है और इसे सामाजिक स्तर पर समाज के जरिए सुलझाया जाना चाहिए.रजक ने कहा कि जेडीयू ने राज्यसभा में तीन तलाक विधेयक के खिलाफ वोट दिया था.इसके पहले नीतीश कुमार ने सार्वजनिक तौर पर तीन तलाक विधेयक का विरोध किया था.

हाल ही में नीतीश ने अपना रुख दोहराते हुए कहा था कि अनुच्छेद 370 को हटाने,समान नागरिक संहिता लागू करने और अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण कराने के मामले को या तो संवाद के जरिए सुलझाए जाएं या अदालत के आदेश के जरिए सुलझाया जाए.

बिहार-सीएम नितीश कुमार
फोटो क्रेडिट-सोशल मीडिया

नीतीश कुमार ने कहा,’यह हमारा विचार है कि अनुच्छेद 370 खत्म नहीं किया जाना चाहिए.इसी तरह समान नागरिक संहिता किसी के ऊपर नहीं थोपी जानी चाहिए और अयोध्या में राम मंदिर का मुद्दा या तो संवाद के जरिए सुलझाया जाए या अदालत के आदेश के जरिए सुलझाया जाए.’बता दें कि केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार को मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक, 2019 को मंजूरी दे दी है. यह फरवरी में घोषित किए गए अध्यादेश का स्थान लेगा.

सरकार का कहना है कि यह विधेयक लैंगिक समानता और लैंगिक न्याय सुनिश्चित करेगा.यह शादीशुदा मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों का संरक्षण करेगा और ‘तलाक-ए-बिद्दत’ से तलाक को रोकेगा.वही कांग्रेस ने भी बिल का विरोध करने का फैसला लिया है.कांग्रेस ने गुरुवार को कहा कि वह संसद में तीन तलाक विधेयक का विरोध करेगी.

अभिषेक मानूं सिंघवी
कांग्रेस नेता

कांग्रेस ने कहा कि विधेयक के कुछ प्रावधानों पर चर्चा की जरूरत है.कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य और प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा,’तीन तलाक पर हमने कुछ बुनियादी मुद्दे उठाए हैं. सरकार कई बिंदुओं पर सहमत हुई है.लेकिन कई बिंदु पर सरकार ने संज्ञान नहीं लिया’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here