बंद हो जायेगा 2000 का नोट,मोदी सरकार के इस फैसले से मिले संकेत

0
500
दो हजार रूपये का नोट फोटो सोर्स-गूगल सर्च

नोटबंदी लागू करने के बाद दो हजार रूपये के नोट रिज़र्व बैंक ने लांच किया था लेकिन महज़ कुछ समय में ही रिज़र्व बैंक ने दो हजार के नोट की छपाई कम कर दी है.बता दे कि दो हजार रूपये के नोट ज़ारी करने पर केन्द्रीय बैंक को आलोचना का भी सामना करना पड़ा है.रिज़र्व बैंक ने नोटबंदी के बाद जारी किए गए दो हजार रुपए के करेंसी नोट की छपाई कम कर दी है.

यह न्यूनतम स्तर पर पहुंच गई है.वित्तमंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी औरआर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने गुरुवार को यह जानकारी दी.आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने कहा कि अनुमानित जरूरत के हिसाब से नोटों की छपाई की योजना बनाई जाती है.उन्होंने कहा कि सिस्टम में 2 हजार रुपये के नोट पर्याप्त मात्रा में हैं.मूल्य के आधार पर इस समय जितने नोट चलन में मौजूद हैं उनमें 35 प्रतिशत नोट 2 हजार रुपये के ही हैं.

गर्ग ने कहा कि हाल फिलहाल में 2 हजार रुपये के नोटों की छपाई को लेकर कोई फैसला नहीं किया गया है.उन्होंने कहा कि आरबीआई और सरकार समय-समय पर प्रचलन में धन के आधार पर मुद्रित होने वाली मुद्रा की मात्रा पर निर्णय लेते हैं.जब 2 हजार रुपये का नोट लॉन्च किया गया था,तो यह तय किया गया था कि छपाई को आगे बढ़ाया जाएगा,क्योंकि नए उच्च मुद्रा मूल्य के नोट का मतलब विमुद्रीकरण की जरूरत को पूरा करने के लिए था.

RBI के आंकड़ों के अनुसार मार्च 2017 के अंत में 328.5 करोड़ 2 हजार के नोट प्रचलन में थे.31 मार्च, 2018 तय यह आकड़ा बढ़कर 336.3 करोड़ पहुंच गया. मार्च 2018 के अंत तक 18,037 अरब रुपये की करेंसी चलन में थी.जिसमें 2 हजार के नोटों का मूल्य 37.3 प्रतिशत है. वहीं, नवंबर 2016 में पुराने 500 और एक हजार के बैंक नोट जो उस समय प्रचलन में कुल थे उसकी संख्या लगभग 86 प्रतिशत थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here