स्विट्जरलैंड:कोर्ट का फैसला ,मुस्लिम लड़कियों को लड़को के साथ ही तैराकी सीखनी होगी

स्विट्जरलैंड:कोर्ट का फैसला ,मुस्लिम लड़कियों को लड़को के साथ ही तैराकी सीखनी होगी

Posted by

मुस्लिम लड़कियों को तैराकी सिखाने के मामले में स्विट्जरलैंड सरकार यूरोपीय ह्यूमन राईट कोर्ट में मुकदमा जीत गई है. कोर्ट ने कहा है कि मुस्लिम लड़कियों को लड़कों के साथ ही तैराकी सिखाना सही क़दम है .

कोर्ट ने कहा कि सरकार के पाठ्यक्रम लागू करना भी सही ठहराया है.हालांकि कोर्ट ने इस कदम को मज़हबी आजादी में दखल माना है लेकिन कहा कि यह दखल किसी तरह से मौलिक अधिकारों का उल्लंघन नहीं है.

यह मामला स्विट्जरलैंड के दो लोगो ने उठाया था. तुर्क मूल के लोगो ने अपनी नाबालिक बेटियों को तैराकी सीखने के लिए लड़कों के साथ स्विमिंग पूल में भेजने के खिलाफ थे. वही सरकार के अधिकारियों का कहना था कि लड़कियों को यह नियम मानना ही होगा. स्विट्जरलैंड में सिर्फ उन्हीं लड़कियों को लड़कों के साथ तैराकी से छूट दी जा सकती है जो बालिक हो चुकी हैं.

2010 के इस मामले में तब माता-पिता पर नियमों का उल्लंघन और अपने कर्तव्यों को पूरा ना करने के कारण 1300 यूरो का जुर्माना लगाया गया था. माता-पिता का कहना था कि यह व्यवहार यूरोपीय मानवाधिकार कन्वेंशन के आर्टिकल 9 का उल्लंघन है. इस आर्टिकल के तहत नागरिकों को विचार, धर्म और अंतःकरण की स्वतंत्रता का अधिकार देता है.

कोर्ट ने कहा, “स्विट्जरलैंड अपनी जरूरतों और परंपराओं के हिसाब से अपनी शिक्षा व्यवस्था बनाने के लिए पूरी तरह स्वतंत्र है. स्कूल सामाजिक एकता में अहम भूमिका अदा करते हैं और पाठ्यक्रम में छूट अपवाद में सही ठहराई जा सकती है.”