हमने डेढ़ महीने पहले ही रेलवे को दे दी थी पटरी क्रैक होने की सूचना ये हादसा नही हत्या है

हमने डेढ़ महीने पहले ही रेलवे को दे दी थी पटरी क्रैक होने की सूचना ये हादसा नही हत्या है

Posted by

मुजफ्फरनगर के खतौली में शनिवार को हुए दर्दनाक रेल हादसे में रेलवे की लापरवाही की सामने आ रही है. यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी कि कानपुर के पुखरायां में हुए रेल हादसे से रेलवे ने कोई सबक नहीं लिया. प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, जिस जगह पर उत्कल एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्त हुई वहां पर पटरी ख़राब थी. मरम्मत का काम भी चल रहा था.
इतना ही नहीं मरम्मत का काम चलने के बावजूद चेतावनी का बोर्ड नहीं लगा था, लिहाजा ट्रेन 100 की स्पीड से जा रही थी. हादसे के बाद उत्कल एक्सप्रेस ट्रेन की S2 बोगी बगल के ही एक घर में जा घुसी. इस घर के एक बुजुर्ग इस हादसे में घायल हो गए.
घर के मालिक जगत सिंह ने कहा कि यह हादसा नहीं हत्या है. उनके नौकर ने डेढ़ महीने पहले ही पटरी क्रैक होने की सूचना दे दी थी. रेलवे प्रशासन ने मरम्मत करने की बात कही थी. इसके बावजूद किसी ने ध्यान नहीं दिया. उन्होंने कहा कि उनके पास इसका सबूत भी है. यह बात पेपर में भी छपी थी और उसकी कटिंग भी है.

 उन्होंने कहा कि हादसे के वक्त वे अपने पिता के साथ ही बाहर बैठे थे. ट्रेन की स्पीड ज्यादा थी. अचानक से डिब्बे उनके घर की तरफ उड़ने लगे. वे अपने पिता को लेकर भागे, लेकिन उन्हें चोट लग गई. इस हादसे में उनका घर भी क्षतिग्रस्त हो गया.

Loading...