बाबरी मस्जिद जहाँ थी वहीं रहेगी-शिया धर्मगुरु कल्बे जव्वाद

बाबरी मस्जिद जहाँ थी वहीं रहेगी-शिया धर्मगुरु कल्बे जव्वाद

Posted by

बाबरी मस्जिद मुद्दे पर शिया वक्फ बोर्ड की तरफ से दाखिल किये गए हलफनामे के बाद आज शिया धर्म गुरू मौलाना कल्बे जव्वाद का इस सिलसिले में अब तक का सबसे बड़ा बयान आया है. धर्म गुरू मौलाना कल्बे जव्वाद ने कहा कि बाबरी मस्जिद मौजूदा जमीन पर ही बन सकती है. मजलिस उलेमा-ए हिन्द के महासचिव मौलाना कल्बे जव्वाद ने शिया वक्फ बोर्ड और मौलाना कल्बे सादिक की तरफ इशारा करते हुए कहा कि जो लोग मंदिर के लिए बाबरी मस्जिद को कहीं दूसरी जगह पर शिफ्ट करने की बात कर रहे है उन्हें मंदिर के लिए अपनी निजी सम्पत्ति को राम मंदिर के लिए अपनी जमीन को छोड़ देना चाहिए.
 बताते चलें कि अभी कुछ दिन पहले ही मशहूर धर्म गुरू मौलाना कल्बे सादिक ने कहा था कि देश के मुसलमानों को राम मंदिर के लिए बाबरी मस्जिद को छोड़ देना चाहिए और किसी मुस्लिम आबादी वाले इलाके में मस्जिद का निर्माण होना चाहिए. कल्बे सादिक के इस बयान के बाद तमाम मुसलमानों की तरफ से तीखी प्रतिक्रिया आई है. मस्जिद को शिफ्ट करने की वकालत करने वाले लोगों को अपना घर और संपत्ति इसके लिए दान कर देनी चाहिए .

उन लोगों को सिर्फ अपनी जमीन देने का अधिकार है,विवादित बयान के बाद मौलाना कल्बे जव्वाद ने कड़ी प्रतिकिर्या जताते हुए कहा कि जो लोग कह रहे है कि बाबरी मस्जिद की जमीन को मंदिर के लियर देना चाहिए उन्हें अपने जाती जमीन इसके लिए देना का अधिकार है. वह मस्जिद के लिए तय की गयी जमीन के लिए यह एलान नहीं कर सकते. उन्होंने कहा कि जो चीच आपकी नहीं है उसके बारे में आप कैसे फैसला ले सकते है.

Loading...