Headline24

Follow

‘जो बोले सो निहाल’,पंजाब और सिख भाइयो से मेरा ख़ून का रिश्ता-नरेंद्र मोदी

Share

​पटना। प्रधानमंत्री नरेन्द्रमोदी ने सिखों के दसवें गुरू गोविन्द सिंह जी की 350वी जयंती के लिए आयोजित प्रकाशपर्व पर लोगों से एकता, अखंडता, भाईचारा, सामाजिक समरसता, सर्व पन्थ-समभाव गुरू के मजबूत संदेश को अपनाने का आह्वान करते हुए कहा कि गुरू गोविन्द सिंह जी और पंजाब से उनका खून का रिश्ता है।

प्रकाशपर्व के मुख्य समारोह को पटना के गाँधी मैदान में मुख्य अतिथि के रूप में सम्बोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि गुरू गोविन्द सिंह जी ने देश के लिए सिर कटाने हेतु जब अपने पंच प्यारों का आह्वान किया था तो उस समय गुजरात के दर्जी समाज का एक बेटा आगे आया था। गुरू गोविंद सिंह जी के ऊँचे मानदंडों की चर्चा करते हुए मोदी ने कहा कि उस समय देश के कोने-कोने से लोग आगे आये थे। सभी ने अपना-अपना सिर कटाने के लिए उनके साथ अपनी हामी भरी थी। इस घटना के बाद ही उनका गुरू गोविन्द सिंह जी और पंजाबियों के साथ खून का रिश्ता बन गया है, जो अब भी है।
पीएम मोदी ने अलग-अलग देशों में कार्यरत दूतावासों को प्रकाश पर्व मनाने के लिए धन्यवाद देते हुए कहा कि भारत सरकार अपने दूतावासों के माध्यम से सभी देशों में प्रकाशपर्व मना रही है जिसके लिए दूतावासों को विशेष संदेश दिए गए हैं। अन्य देशों में भी मनाये जा रहे इस पर्व से पूरे विश्व को यह एहसास हो गया है कि बिहार की धरती पर 350 साल पूर्व एक दिव्यात्मा का जन्म हुआ था जिसने मानवता को प्रेरणा दी। भारत सरकार विश्व को गुरू गोविन्द सिंह जी के बारे में अवगत कराने के लिए प्रयासरत है।
पीएम मोदी ने कहा की केंद्र सरकार ने प्रकाशपर्व के आयोजन पर 100 करोड़ रूपये दिए हैं। इसके अलावा रेल मंत्रालय ने स्थाई सुविधाओं के लिए 40 करोड़ रूपये और भारत सरकार के सांस्कृतिक विभाग ने भी 40 करोड़ रुपये इन आयोजनों के लिए दिया है। भविष्य में भी इस पर्व का आयोजन करने के लिए केंद्र सरकार योजना बना रही है।
सिख श्रद्धालुओं के बीच पीएम मोदी ने अपना संबोधन पंजाबी भाषा में प्रारम्भ किया और समापन पर भी “जो बोले सो निहाल, सत श्री अकाल’ से किया। पंजाबी भाषा में चार पंक्तियाँ बोलते हुए उन्होंने कहा कि गुरू गोविन्द सिंह जी का आशीर्वाद लेने आये देश-विदेश के श्रुद्धालुओं को नए साल की शुभकामनाएं दीं। प्रधानमंत्री पटना साहिब तख़्त हरिमंदिर साहब भी गए और इस अवसर पर उन्होंने गुरू गोविंद सिंह जी पर डाक टिकट भी जारी किया।

Share

Related

Latest