Headline24

Follow

आज बुद्धिष्ट आतंकवादी देखे जा रहे हैं,म्यांमार के बुद्धिष्ट भी आतंकी हो गये हैं-दलाई लामा

by News Editor

Share

बिहार-बोधगया स्थित कालचक्र मैदान में शुक्रवार को 34वीं कालचक्र पूजा के दौरान प्रवचन देते हुए बौद्ध धर्मगुरु दलाई लामा ने कहा कि आतंकियों का कोई धर्म नहीं होता है। आतंकी कभी धार्मिक नहीं हो सकते। क्रोध, ईर्ष्या व क्लेश के कारण लोग दूसरों को दुख पहुंचाने में लगे हैं। हत्या तक कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज बुद्धिष्ट आतंकवादी भी देखे जा रहे हैं। धर्मगुरु ने म्यांमार का उदाहरण व अमेरिका में छपी खबरों का हवाला देते हुए कहा कि म्यांमार में बुद्धिष्ट भी आतंकी हो गये हैं। यह सर्वथा गलत, मानवता व धर्म के खिलाफ है। सभी धर्मों का सार है आपस में प्रेम करो।
दलाई लामा ने कहा कि शत्रु व नुकसान पहुंचाने वालों से भी प्रेम करना सीखिए, वह भी आपका मित्र बन जायेगा। क्लेश को त्याग कर सुख की प्राप्ति की जा सकती है। प्रवचन सुननेवालों में हॉलीवुड अभिनेता रिचर्ड गेरे भी शामिल रहे।
प्रवचन के दौरान दलाई लामा ने व्यक्ति को राग, द्वेष, तृष्णा व अहंकार त्यागने की सीख देते हुए कहा कि महान बौद्ध विद्वान नागार्जुन ने भी अपने लिए कोई बौद्ध मठ का निर्माण नहीं कराया था, पर वर्तमान में दिखावे व अन्य कारणों से बौद्ध भिक्षुओं द्वारा बड़े-बड़े बौद्ध मठों का निर्माण कराया जा रहा है। यह दिखावे के लिए प्रतीत होता है। उन्होंने कहा कि आपकी बुद्धिमता दूसरों की भलाई में लगनी चाहिए।
न कि किसी को नुकसान या बेवकूफ बनाने में। उन्होंने कहा कि आपका आचरण ही तय करेगा कि भविष्य में आपके साथ कैसा होने वाला है। मानव जीवन प्राप्त होने के पीछे भी आपके कर्म ही सबसे बड़ा कारक होता है। प्रवचन के समापन तक उन्होंने इस बात को दोहराया कि आंतरिक क्लेश हमें बार-बार हराता रहेगा, इस कारण उसे हमेशा-हमेशा के लिए नष्ट करने का प्रयास करें।

Share

Related

Latest