“मोब लिंचिंग” से उदास इमरान प्रतापगढ़ी शुरू करेंगे गांधीवादी मुहिम

“मोब लिंचिंग” से उदास इमरान प्रतापगढ़ी शुरू करेंगे गांधीवादी मुहिम

Posted by

आम फ़नकारों से अलग इमरान प्रतापगढ़ी देश से जुड़े मामलों पर लगातार अपने विचार लिखते रहते हैं. मौजूदा दौर में बढ़ रहीं “मोब लिंचिंग” की घटनाओं के बाद उन्होंने इस भीढ़तंत्र को चुनौती देने का फ़ैसला कर लिया है. इस बारे में उन्होंने अपने फेसबुक पेज पर लिखा है और हम साझा कर रहे हैं..

ज़माना मुझसे उदासी का सबब पूछता है
•••••••••••••••••••••••••••••
मैं उदास हूँ, दुखी हूँ
मेरी पलकें नम हैं…….मुझे अख़लाक़ की मौत पर भी उतना ही दुख है जितना जुनैद की मौत का, मुझे पहलू की मौत पर उतना ही दुख है जितना अय्यूब पंडित की मौत का, मुझे नईम की मौत का भी उतना ही दुख है जितना गणेश और गंगेश की मौत का !
मैं हरियाणा और राजस्थान में होती घटनाओं पर उतना ही दुखी हूँ जितना सहारनपुर के जलते हुए घरों पर था, मुझे बंगाल में एक बुज़ुर्ग की मौत पर उतना ही रोना आया जितना नजीब के ग़ायब होने पर आया था !
दरअस्ल मैं लोकतंत्र को भीडतंत्र में बदलते देख उदास हूँ
लेकिन मायूस नहीं हूँ ज़रा सा भी
हमने इन तमाम अराजकताओं के ख़िलाफ़ जब लोगों से अपील की ईद की नमाज़ काली पट्टी बॉंध कर पढिये तो सलाम है इस अवाम का कि इसने हमारी आवाज़ से आवाज़ मिलायी, और पूरी दुनिया में लोगों ने अपने हाथों पर काली पट्टी बॉंध ली !
नफ़रतों की खेती बहोत फल फूल रही है और मुहब्बतों का सिलसिला अभी अंकुरित हो रहा है लेकिन रोमांचित हूँ ये सोच कर कि काली पट्टी की मुहिम अब NotinmyName में बदल कर हर अमनपसंद भारतीय तक पँहुच चुकी है !
एक उम्मीद की किरन जागी है पूरे मुल्क में !
आइये अब इस सिलसिले को और आगे बढाते हैं, 6 August को हमारी कोशिश है कि हम तमाम नौजवान अलग अलग मज़हबों के मिलकर इस देश को एक बहोत जज़्बाती सा संदेश दें, हम एक एैसी कोशिश करें कि पूरे मुल्क में अराजक भीड को भी अराजकता फैलाते हुए शर्म आये !
इस वक्त टीपू सुल्तान की सरज़मीं पर बैठा हुआ ये संदेश आप सबके नाम लिख रहा हूँ……….हम कुछ दीवाने इस गंगा जमुना तहज़ीब से मुहब्बत करने वाले मिलजुल कर एक और नयी शुरुआत करने चल रहे हैं !
15 July की शाम हम बाक़ायदा अपनी इस गॉंधीवादी मुहिम की घोषणा करेंगे !
तो इंतज़ार करिये 15 July की शाम का और दुआ करिये 6 August के लिये कि हम अमनपसंद लोग कामयाब हो सकें !
तब तक जुडे रहें हमसे, हमारी कोशिशों से

Loading...