दिल्ली से लखनऊ तक हवा में फैली जहरीली कोहरे लाखों जिंदगियां खतरे में

दिल्ली से लखनऊ तक हवा में फैली जहरीली कोहरे लाखों जिंदगियां खतरे में

Posted by

नई दिल्ली:delhi-pollution-shutterstock smog_af5fceb0-a1d8-11e6-93ed-ab826829dd0bएनसीआर और उसके आसपास के क्षेत्रों में हवा जहरीली हो गई है। दीवाली के बाद से ही दिल्ली में छाया कोहरा बढ़ता जा रहा है। स्मोक और फोग के इस मिले-जुले रूप को स्मोग का नाम दिया गया है| केवल दिल्ली ही नहीं अब इस जहरीले कोहरे ने नोएडा, गाजियाबाद, गुरुग्राम , आगरा और लखनऊ को भी अपनी चपेट में ले लिया है। हवा में घुले इस जहर से लोगों में बीमारियों का खतरा बढ़ गया है।

इस जहरीले कोहरे से सबसे बेहाल राजधानी दिल्ली है। दीवाली के बाद से ही दिल्ली में काले बादलों के रूप में यह कोहरे 24 घंटे फैली हुई है। इस कोहरे कितनी खतरनाक है, इसका अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि दिन के 12 बजे भी धूप इस पार के लोगों तक नहीं पहुंच पा रही है। जानलेवा धुएं से बचने के लिए दुकानों मास्क खरीदने वालों की भीड़ लग गई है|

नोएडा और गाजियाबाद में भी हवा में इस कोहरे जहर घुल रहा है। नोएडा में स्मोग की वजह से प्रदूषण का स्तर 250 से बढ़कर 950 एमजी तक पहुंच चुकी है, जो लोगों के लिए बेहद खतरनाक है। खतरनाक कोहरे की वजह से नोएडा और गाजियाबाद के स्कूलों में नर्सरी से कक्षा 2 तक दो दिन की छुट्टी कर दी गई है। दिल्ली में भी तकरीबन 1500 स्कूलों में तीन दिन कि छुट्टी कर दी गई है। बड़े लोगों को भी जब तक आवश्यक न हो, घरों से न निकलने की सलाह दी जा रही है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि कमरे के अंदर भी सांस सुरक्षित है क्योंकि इस कोहरे ने घरों के अंदर भी प्रदूषण का स्तर खतरनाक स्तर तक पहुंचा दिया है।

दिल्ली जैसा ही हाल आगरा और लखनऊ में भी देखने को मिल रहा है। आगरा का प्रसिद्ध ताजमहल कोहरे की चादर से इस तरह ढक गया है कि मानो गायब सा हो गया हो। लखनऊ में रात से दोपहर तक सड़कों पर कोहरे की चादर छाई रही। शहर के कई इलाकों में दृष्टि-सीमा काफी कम रही। वैज्ञानिकों के अनुसार यह दिल्ली के कोहरे का ही प्रभाव है, जो हवाओं की दिशा के कारण इस ओर बढ़ रहा है|

डॉक्टरों के अनुसार जहरीली हवा स्वास्थ्य के लिए अत्यंत हानिकारक है और यह अपने अंगों पर बुरा असर डाल रही है। डॉक्टरों के मुताबिक इस जहरीली हवा सांस लेने में कठिनाई का सामना करना पड़ सकता है। फेफड़ों में संक्रमण, हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा भी पैदा हो सकता है। प्रतिरक्षा भी कमजोर हो सकती है। जहरीली हवा ब्लड कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है, बालों के झड़ने की समस्या पैदा हो सकता है .इसके अलावा एलर्जी, त्वचा में जलन और संक्रमण का खतरा भी बढ़ जाता है|

 

डॉक्टरों के अनुसार जहरीली हवा से सावधान रहने की जरूरत है। स्मोग के समय घर से बाहर निकलने से परहेज करें। मुंह पर रूमाल, कपड़ा या मास्क का प्रयोग करें। सुबह के समय पार्क जाने से भी बचें। सूरज की किरणों के साथ स्मोग अधिक खतरनाक हो जाता है। सांस लेने में तकलीफ हो तो तुरंत डॉक्टर से सलाह-मशविरा करें। स्वच्छ हवा में घुला जहर जब तक समाप्त नहीं हो जाता, ध्यान ही सबसे अच्छा तरीका है। साथ ही साथ ऐसे कामों से भी परहेज करें, जो जलवायु जहरीली हो जा जाती है।

 

Loading...